People Foundation

Just another weblog

22 Posts

129 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 6583 postid : 63

तुम्हें बाबा कहूँ कि बलात्कारी बाबा !!!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

balatkari bababalatkari babaबाबा राम देव जी आप के कल के व्यक्तव्य से मुझे नई सोंच मिली कि संसद में बैठा प्रत्येकं सांसद चोर हत्यारा व सभी प्रकार के गलत कामों में लीन होता है ! वाह बाबा आप धन्य हैं, महान हैं !
संसद के लिए आप के विचार यदि सत्य हैं तो मुझे प्रत्येक व्यक्ति के लिए इसी प्रकार से सोचने के लिए विवश कर रहे हैं !
लेकिन ज्यादा तर लोगों की सोंच होती है कि संसद भवन पूरे हिन्दुस्तान की नीव होती है और वहाँ के प्रत्येक सदस्य को भेजने का काम जनता ही करती है क्या जनता चोरों को वहाँ पर भेज रही है !
आये दिन इस प्रकार के समाचार आते रहते हैं की भगवा चोले वाले बाबा ने मासूम की बलि दी , मंदिर में मूर्ति चोरी , लोगों को धर्म के नाम पर गुमराह कर ठगी की , नाबालिक से बलात्कार आदि कार्य बाबा द्वारा किये जाते हैं तो क्या लोगों को सभी भगवा चोला वाले बाबा को बलात्कारी बाबा कहना ठीक होगा ?
आपको समाचार पत्रों और मीडिया में छाने का शौख है तो और भी रस्ते हैं योग से आप लगातार मीडिया में बने रहते थे खोखो कबड्डी खेल कर जब तब आप मीडिया में आप आहि जाते हैं तो अब आपको पूरे हिन्दुस्तान को गली देकर मीडिया में आने का काम मत करिये !
मैं मानता हूँ की मीडिया में आने के लिए सभी लोग नए नए तरीके अपनाते रहते हैं कोई आमरण अनसन पर तो कोई सांकेतिक पर बैठ कर जस प्राप्त कर रहा है !
अभी सेना प्रमुख भी कोई नया रास्ता सोंच रहे होंगे , वह व्यक्ति जो पूरे हिन्दुस्तान की सबसे महत्व पूर्ण पद पर है वह ही कहता है की हमारे पास गोला बारूद कुछ नहीं है , हौसला देखना है तो सरहद पर जाकर देखो सेना प्रमुख जी – वहाँ पर जवान बिना गोला बारूद के ही दुश्मन का सामना कर अपने देश की रक्षा करने में अपने प्राण न्योछावर कर देता है पर दुश्मन को यह महसूस नहीं होने देता कि हमारे पास क्या है क्या नहीं !

बाबा जी इतिहास देखना है तो आपको बतादूँ कि अनसन और बेबसी को लेकर कटोरी देवी लगातार 35 सालों तक सरकार और समाज के खिलाफ विधान सभा के सामने बैठ कर अपने हक कि लड़ाई लडती रही लेकिन उसके विषय में न आपने न अन्ना ने मालूम किया न प्रयास करेंगे !
आपसभी को सिर्फ और सिर्फ सुर्खी चाहिए और कुछ नहीं ……
बाबा आप और अन्ना दोनों लोगों के अनसन में कोई न आये सिर्फ दो लोग ही रहे तो दूसरे दिन बिना बताये हुए दोनों लोग गायब हो जायेंगे और अपने घर पहुँच जाएँगे क्यों कि आपको जन समुदाय भी दिखाना चाहिए !
नेता को चाहिए भीड़ और आप दोनों को भी भीड़ तो अंतर क्या है बाबा जी ?
बाबाजी गरीबों के हक के लिए लड़ना है तो पहले आप भी गरीब बनिए फिर गरीबों के हक के लिए लड़िये समझ में आयेगा कि लडाई क्या होती है !
चन्द्रजीत 9453410000

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

अजय कुमार झा के द्वारा
May 5, 2012

सवाल सिर्फ़ ये है कि आखिर साठ सालों तक किसी ने कुछ नहीं कहा और अब जबकि सवा अरब से ज्यादा की जनसंख्या को सिर्फ़ सवा पांच सौ व्यक्ति जैसे तैसे तोड मरोड के न सिर्फ़ उनके जीवन से बल्कि देश की अस्मिता , प्रतिष्ठा और यहां तक कि विकास से खिलवाड कर रहे हैं तो फ़िर आखिर उनका प्रतिकार क्यों न किया जाए । और याद रखिए कि यहां आम जनता जब प्रतिक्रिया देने पर उतरती है तो …पांव के जूते चप्पल तक हाथ में आ जाते हैं । व्यक्ति अहम नहीं है ..अहम है मुद्दा ..और बात उसी पर होनी चाहिए ..जनलोकपाल , विदेशों में काला धन , भ्रष्टाचारियों को कडा दंड …..आतंकियों को फ़ांसी …कहां है ये सब मुद्दे और इन पर होने वाली बहस

    chandrajeet के द्वारा
    May 14, 2012

    अजय कुमार झा जी …. किसी कि उंगली पकड़ के अंधे भक्त बनना हमारे विचार से सही नहीं है ! सांसद और बाबा में अंतर क्या है समझ में तो आना चाहिए ….. रही जूते और चप्पल की बात तो इसका उदाहरण कानपुर का फूलबाग है जहाँ पर बाबा और नेता सबका स्वागत हुआ है! बाबा जयगुरुदेव की रैली के बाद ट्रकों जूते और चप्पल स्वागत में चले थे और यही तरीका नेताओं के साथ भी हुआ था ! इसलिए जोश में मत आइये … बाबा के लिया तो यही सही है .. कबिरा इस संसार में भांति भांति के लोग , कुछ तो *** ** * ** **** *** ** !!

yogi sarswat के द्वारा
May 4, 2012

अच्छा लेख है !

    chandrajeet के द्वारा
    May 4, 2012

    धन्यवाद बड़े भाई जी

चन्दन राय के द्वारा
May 4, 2012

चंद्रजीत जी , आपकी आवाज को मेरा समर्थन , आपका आलेख पूर्णत मेरी कसौटी पर खरा है

    chandrajeet के द्वारा
    May 4, 2012

    समर्थन के लिए धन्यवाद ….

kalia के द्वारा
May 4, 2012

बाबा रामदेव ने कभी यह नहीं कहा कि सारे सांसद चोर और लुटेरे हैं, बल्कि अच्छे सांसदों की तारीफ़ के बीच ही ढेर सारे लुटेरों को लुटेरा कहा है. संसद लुटेरों से भरी है, यह अब प्रमाणित करने वाली बात नहीं रह गई है. आप किस परिस्थिति से देश के गुजरने के बाद इसे प्रमाणित मान पाएंगे ? जब सारे देश की मिट्टी तक स्विस बैंकों में पहुँच जाएगी, तब मानेंगे ? जनता किस लाचारी के तहत इन्हें ही बार-बार चुनने पर मजबूर दिखती है, इसपर भी अब कोई विश्लेषण शेष नहीं बचा है. हम सच्चाई को स्वीकार करना सीखें, न कि अपनी शान में गुस्ताखी के बाद हुआं-हुआं करते सांसदों के झांसे में आकर कोई राय कायम करें.

    chandrajeet के द्वारा
    May 4, 2012

    कालिया जी बिलकुल सही कहा आपने … यही तो मै कह रहा हूँ हुवा हुवा तो रामदेव करते हैं मगर ……. ?????

डॉ डी॰के॰मल्ल के द्वारा
May 4, 2012

चंद्रजीत जी , मैं आपसे पूरी तरह सहमत हूँ । तथाकथित बाबा संसद को गाली दें और वे सभ्य बने रहें , एक साथ दोनों नहीं हो सकता।

    chandrajeet के द्वारा
    May 4, 2012

    सहयोग के लिए धन्यवाद बड़े भाई

dineshaastik के द्वारा
May 4, 2012

आदरणीय  चन्दर जी सच  है कि सारे सांसद प्रत्यक्ष  भ्रष्टाचारी नहीं हैं,  किन्तु आप भ्रष्टाचार होते खामोशी से देख  रहें है, उनके विरुद्ध  निष्पक्ष  आवाज  नहीं उठा रहें  है, तो आप  निश्चित  ही उस  अपराध  के भागीदार  कहलायेगे जो आपने नहीं किया है।  यदि आप रोज  रोज  मदिरालय में लोंगो को मदिरा पीते हुये  देखोंगे तो कभी न कभी आपकी भी इच्छा हो जायेगी मदिरा चखने की। और व्यक्ति इच्छा से ही भ्रष्टाचारी बननता है। मैं सबको बलात्कारी और हत्यारा तो नहीं कह सकता लेकिन सभी सांसदों का भ्रष्टारी कह सकता हूँ। अब वो हमसे न कहें कि मेरे भ्रष्टचारी होने का सबूत दो, बल्कि हम  उनसे कहें आप  हमें अपने भ्रष्टाचारी न  होने का सबूत  दें। क्या किसी नेता के पास  है ऐसा सबूत  कि वह उसे भ्रष्टाचरी न होने का प्रमाण पत्र दे सके। शायद नहीं…

    chandrajeet के द्वारा
    May 4, 2012

    बड़े भाई दिनेश जी सादर प्रणाम … सत्य कहने में संकोच कैसा , सराहना के लिए धन्यवाद …


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran